भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स बोइंग स्टारलाइनर कैप्सूल में सवार होकर शुक्रवार को अंतरराष्‍ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) पहुंचीं।

Pinky Singh - 6/7/2024 3:55:39 PM -

वॉशिंगटन। भारतीय-अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री सुनीता विलियम्स बोइंग स्टारलाइनर कैप्सूल में सवार होकर शुक्रवार को अंतरराष्‍ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) पहुंचीं। पहुंचने के बाद उन्होंने नृत्य किया और ISS पर अन्य अंतरिक्ष यात्रियों को गले लगाया। 58 वर्षीय सुनीता विलियम्स ने इतिहास रच दिया क्योंकि वह अंतरिक्ष के लिए अपने पहले चालक दल के परीक्षण उड़ान पर एक नए अंतरिक्ष यान को उड़ाने भरने वाली पहली महिला बनीं हैं। 5 जून को विलियम्स और नासा के एक अंतरिक्ष यात्री, विल्मोर को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल से बोइंग स्टारलाइनर पर लॉन्च किया गया था।

नासा द्वारा एक्स पर साझा किए गए वीडियो में, जिसे पहले ट्विटर के नाम से जाना जाता था, विलियम्स को कैप्सूल से बाहर आते हुए देखा गया है। बाहर आते ही, वह एक छोटा सा नृत्य करती है और आईएसएस पर अन्य अंतरिक्ष यात्रियों को गले लगाती हैं। विलियम्स ने अपनी डांस पार्टी के बारे में कहा, चीजों को आगे बढ़ाने का यही तरीका है। बता दें कि विलियम्स और विल्मोर स्टारलाइनर उड़ाने वाले पहले चालक दल हैं।

बोइंग क्रू फ्लाइट टेस्ट (सीएफटी) के नाम से जाना जाने वाला यह मिशन नासा के वाणिज्यिक क्रू कार्यक्रम के तहत अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) के लिए नियमित क्रू ट्रिप के लिए स्टारलाइनर को प्रमाणित करने में एक महत्वपूर्ण कदम है। यदि मिशन सफल होता है, तो स्टारलाइनर स्पेसएक्स के क्रू ड्रैगन के बाद दूसरा निजी अंतरिक्ष यान बन जाएगा, जो अंतरिक्ष यात्रियों को परिक्रमा प्रयोगशाला तक ले जाएगा और वापस लाएगा।